छत्तीसगढ़:राजीव गांधी किसान न्याय योजना की पहली किस्त जारी, किसानों के खाते में भेजे गए 1500 करोड़

रायपुर/ ख़बरें छत्तीसगढ़ : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि के अवसर पर प्रदेश के किसानों को दी जाने वाली सहायता राशि की पहली किस्त जारी की। सीएम बघेल ने अपने आवास पर स्थित कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में किसानों के खाते में यह राशि भेजी।

बता दें कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत प्रदेश के 22 लाख किसानों को खरीफ सीजन 2020-21 की पहली किस्त के रूप में 1500 करोड़ रुपये की कृषि आदान सहायता राशि (इनपुट सब्सिडी) का अंतरण उनके बैंक खातों में किया गया।

कार्यक्रम में सीएम बघेल ने इसके साथ ही गोधन न्याय योजना के तहत राज्य के करीब 72 हजार पशुपालकों के खातों में भी 15 मार्च से 15 मई तक गोबर खरीदी के एवज में 7 करोड़ 17 लाख रुपये राशि ऑनलाइन माध्यम से भेजी।

इसके साथ ही गौठान समितियों और महिला स्व-सहायता समूहों को भी 3.6 करोड़ रुपये की राशि ऑनलाइन भेजी गई। बता दें कि सरकार की ओर से गोधन न्याय योजना के तहत पशुपालकों एवं ग्रामीणों को अब तक कुल 88 करोड़ 15 लाख रुपये का भुगतान किया जा चुका है। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष और सांसद सोनिया गांधी का संदेश भी पढ़ा। राज्यसभा सांसद पीएल पुनिया ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कार्यक्रम में शिरकत की।

विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत सहित स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंड़िया, उद्योग मंत्री कवासी लखमा, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल तथा लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरु रूद्रकुमार, मुख्यमंत्री के सलाहकार द्वय विनोद वर्मा और राजेश तिवारी, मुख्य सचिव अमिताभ जैन, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ. एम गीता, मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी और संचालक कृषि अमृत खलखो उपस्थित थे। कार्यक्रम में विभिन्न जिलों से सांसद, विधायक, अन्य जनप्रतिनिधि, किसान और पशुपालक भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *