भिलाई: थाने के संरक्षण मे जारी है अवैध सट्टा पट्टी का कारोबार, अवैध कारोबारियों मे छावनी जाने की लगी होड़,पुलिस का संरक्षण पाकर सटोरिया संजय काट रहा चांदी

विस्तार

रविकांत मिश्रा
भिलाई: छावनी थाना क्षेत्र सट्टा पट्टी और अवैध कारोबारियों के लिए मुख्य केंद्र बना हुआ है। यहां आकर हर अवैध कारोबारी अपना अवैध कारोबार करने के लिए उत्सुक है, और हो भी क्यू ना ज़ब थाने का का थानेदार ही खुलकर अवैध कारोबारियों के संरक्षण मे खड़ा हो तो। बता दे की गलती से भी इस अवैध कारोबार को लेकर थाने के थानेदार से कोई सवाल करदे तो साहब आग बबूला हो जाते है। और सवाल करने वालो पर ही भड़क उठते है, मजाल हो क्षेत्र का कोई आम नागरिक थानेदार साहब से सवाल कर दे साहब थाने के थानेदार है, यहां सब कुछ उन्ही की मर्जी से चलता है। सवाल करने पर साहब सटोरियों की भाषा बोलने लगते है। आखिर सटोरिये भी क्षेत्र के ही है, उनकी भी समस्या साहब को ही समझना है। शायद इसी नाते साहब उनकी इतनी फ़िक्र करते होंगे? क्षेत्र में मुख्यमंत्री और गृहमंत्री के आदेश की भी नहीं चलती क्योंकि कुछ ही समय पहले प्रदेश के गृहमंत्री ने सट्टे को अवैध बताते हुए इसे पूरी तरह से बंद करने के लिए कहा था, लेकिन उनके भी इस आदेश की खुलकर धज्जिया छावनी थाना अंतर्गत उड़ाई जा रही है। यही हाल मुख्यमंत्री द्वारा दिए गए गांजे को लेकर आदेश की है। खुलेआम क्षेत्र में चौरसिया होटल के पीछे सुबह से लेकर शाम तक गाजा की खरीदी बिक्री धड़ल्ले से जारी है,यहां गांजा ख़रीदी करने वालो की भीड़ सुबह 6 बजे से ही आपको देखने को मिल जाएगी।

दूसरी तरफ खुर्सीपार शिवालय के आगे वाली सड़क का है जहा नाईट किंग के नाम से मशहूर दारू कोचिये का अवैध दारू बेचने का कारोबार रफ़्तार से बिना किसी रोक टोक दौड़ रहा है।

बतादे की छावनी थाना क्षेत्र में बड़े पैमाने पर मोची मुहल्ले मे संजय नाम का बड़ा सट्टा कारोबारी विगत कई वर्षो से सट्टा पट्टी का अवैध कारोबार संचालित कर रहा है। जिसकी शिकायत कई बार वहां के आम नागरिकों द्वारा पुलिस के बड़े आला अधिकारीयों से की गई लेकिन छोटी मोटी कार्रवाई कर छावनी पुलिस ने अपनी पीठ थपथपा ली। लेकिन कार्रवाई के ठीक 1 से 2 दिन बीतते ही फिर से पहले की ही भाती अवैध कारोबार का संचालन क्षेत्र में संचालित होने लगा। जिसके बाद से आज तक कोई कार्यवाई क्षेत्र में देखने को नहीं मिला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *