रायगढ/कुपोषण मुक्त कल के लिये आज हमें टीम के रूप में देना होगा अपना बेस्ट-कलेक्टर भीम सिंह

रायगढ़/कुपोषण के खिलाफ इस लड़ाई को निर्णायक मोड़ पर लेकर जाना है। हमारे प्रयासों की इंटेसिटी अब और बढ़ानी है। एक-एक कुपोषित बच्चे के स्वास्थ्य पर पूरा ध्यान देना है, कोई गर्भवती या एनिमिक महिला हमारे देखभाल से ना छूटे। हमें एक टीम की तरह काम कर अपना बेस्ट देते हुये अपने प्रयासों को अंजाम तक पहुंचाना है। ताकि एक बेहतर कल हमारे सामनेे हो। उक्त बातें कलेक्टर भीम सिंह ने महिला बाल विकास विकास विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान कही। बैठक में कलेक्टर श्री सिंह ने कुपोषण प्रबंधन के साथ विभागीय योजनाओं के क्रियान्वन की गहन समीक्षा कर आगामी माहों में किये जाने वाले कार्यों की रूप रेखा के अनुरूप विभागीय अधिकारी- कर्मचारियों को निर्देशित किया। बैठक में कलेक्टर श्री सिंह ने सेक्टर वार कुपोषण प्रबंधन की समीक्षा की। जिन सेक्टरों में प्रदर्शन अच्छा रहा है उनके द्वारा किये गये नवाचारों की जानकारी ली। वहीं कमजोर प्रदर्शन करने वाले सेक्टरों में कारणों की समीक्षा कर संबंधित सुपरवाईजर्स को बेहतर कार्य करने की समझाईश दी। उन्होंने कहा कि रायगढ़ जिले में कुपोषण प्रबंधन पर व्यापक स्तर पर कार्य हो रहा है। बड़ी राशि खर्चने के साथ माइक्रो लेवल पर मॉनिटरिंग की जा रही है। अत: इनके परिणाम जमीन पर दिखने चाहिये। उन्होंने सभी से 6 माह में कुपोषण की दर में 10 प्रतिशत की कमी के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिये अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिये कहा।कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि पिछले दिनों कुपोषण को दूर करने सामुदायिक सहभागिता बढ़ाने का उद्देश्य लेकर सरपंचों से सीधा संवाद किया गया। उन्हें अपने स्तर पर अतिरिक्त पोषण आहार के रूप में दूध व फल आंगनबाड़ी में उपलब्ध कराने कहा गया है। साथ ही गांव में जीवन शैली से जुड़ी इस समस्या को दूर करने लोगों को जागरूक करने का दायित्व भी सौंपा गया है। अत: सभी सुपरवाईजर सरपंचों व जनप्रतिनिधियों से समन्वय कर इस दिशा में कार्य करें।

शत-प्रतिशत गर्भवती महिलाओं को देना है गरम भोजन

कलेक्टर श्री सिंह ने महतारी जतन योजना के अंतर्गत शत-प्रतिशत हितग्राहियों को लाभान्वित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देना आवश्यक है। इससे महिलाओं के स्वास्थ्य के साथ होने वाले बच्चे के सेहत की नींव भी मजबूत होगी। इसके लिये उन्होंने महिलाओं को आंगनबाड़ी केन्द्र बुलाकर गरम भोजन देने और यदि महिला केन्द्र नहीं आ रही है तो उसके घर पर भोजन पहुंचा कर देने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि हर गर्भवती महिला को रोजाना पोषण आहार दिया जाना है।

बाल संदर्भ शिविर के लिये दवाईयों का रखें पूरा इंतजाम

कलेक्टर श्री सिंह ने बाल संदर्भ शिविर के आयोजन व उससे बच्चों को हो रहे फायदे पर भी चर्चा की। सुपरवाईजर्स ने बताया कि शिविर के आयोजन से बच्चों के स्वास्थ्य में तेजी से सुधार हो रहा है। उन्हें विटामिन व प्रोटीन की अतिरिक्त खुराक भी मिल रही है। कलेक्टर श्री सिंह ने जिन स्थानों पर पीएचसी दूर है वहां बाल संदर्भ लगाने की पृथक व्यवस्था करने के निर्देश सीएमएचओ को दिये तथा आवश्यक दवाईयों का पूरा इंतजाम रखने के लिये भी कहा।

01 अप्रैल से कापू में शुरू हो जायेगा पोषण पुनर्वास केन्द्र

पोषण पुनर्वास केन्द्र में भर्ती बच्चों तथा उनके उपचार व देखरेख की समीक्षा की। उन्होंने कापू में 01 अप्रैल से एनआरसी प्रारंभ करने के निर्देश दिये। कलेक्टर श्री सिंह ने माह में एक बार कुपोषित बच्चों के पालक, सरपंच, सचिव, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं तथा एएनएम के साथ बैठक करने के लिये कहा। जिसमें बच्चों के खान-पान तथा जीवन शैली से जुड़ी गतिविधियों की समीक्षा करने व बच्चों के प्रोगे्रस की मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिये।

महिला सभा का करें आयोजन

कलेक्टर श्री सिंह ने सभी सुपरवाईजर्स को निर्देशित करते हुये कहा गांवों में महिला सभा का आयोजन करें। जिसमें महिलायें स्वास्थ्य तथा अन्य मुद्दों पर अपनी बात रख सके। जिसके आधार विभाग द्वारा उनके सहयोग के लिये आगामी कार्यक्रमों की रूपरेखा तैयार की जा सके। उन्होंने बताया कि पावना अभियान के तहत जिले को शत-प्रतिशत माहवारी स्वच्छ बनाने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। उन्होंने सेनेटरी नेपकिन के उपयोग को बढ़ावा देने तथा माहवारी से जुड़ी भ्रांतियों को दूर करने के लिये भी कार्य करने के निर्देश दिये।कलेक्टर ने इसके अतिरिक्त आंगनबाड़ी केन्द्रों में ग्रीष्मकाल के अनुरूप विद्युतीकरण, पेयजल तथा शौचालय के तैयारियों के संबंध में भी चर्चा की। जिन केन्द्रों में इनसे जुड़ी समस्या है वहां मरम्मत कार्य करने के निर्देश दिये। आंगनबाड़ी केन्द्रों को बाडिय़ों से लिंकेज का कार्य जल्द पूर्ण करने के लिये कहा। साथ ही आंगनबाड़ी केन्द्रों में पोषण वाटिका में गर्मी के मौसम के अनुसार आयरन की अधिकता वाले पत्तेदार सब्जियों के रोपण के निर्देश दिये।इस अवसर पर सीईओ जिला पंचायत सुश्री ऋचा प्रकाश चौधरी, महिला बाल विकास अधिकारी श्री टीके.जाटवर सहित महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी- कर्मचारी व सेक्टर सुपरवाईजर मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *