डबरापारा में डायरिया का कहर:4 नए मरीज मिले, सात दिनों में 32 पीड़ित मिल चुके, निगम की जांच में बैक्टीरिया नहीं मिला, 13 सैंपल लैब भेजे गए

विस्तार

अमरेन्द्र सिंह

नगर निगम भिलाई- 3 चरोदा के डबरापारा में 7 दिन से डायरिया फैला हुआ है। शनिवार को स्वास्थ्य विभाग के शिविर में 4 और नए मरीज मिले हैं। इनमें डायरिया के सिमटम मिले है, जिन्हें दवाएं देकर घर भेज दिया गया है। भिलाई-3 अस्पताल के प्रभारी डॉ. भुनेश्वर कठौतिया के मुताबिक सभी की हालत ठीक है। कोई गंभीर​ स्थिति में नहीं है।

27 अगस्त को पहला मरीज डबरा पारा में पाया गया था। तब एक दिन में 9 मरीज मिले थे। इसके बाद से लगातार मरीज मिल रहे हैं। अब तक डबरा पारा में 32 मरीज मिल चुके है, जिन्हें दस्त, उल्टी, बुखार है। इससे आशंका जताई जा रही है कि क्षेत्र में डायरिया फैला हुआ है। हालांकि अब तक डॉक्टरों ने भी इसकी पुष्टि नहीं की है। पुष्टि करने के लिए 5 मरीजों के मल की जांच करवाया जाना था। इसके लिए स्वास्थ्य वि​भाग की टीम ने 5 मरीजों से सैंपल मांगा था, लेकिन लोगों ने सैंपल नहीं दिया। सिर्फ एक मरीज ने सैंपल दिया है, जिसे स्वास्थ्य विभाग ने जांच के लिए रायपुर भेजा है।

बताया जा रहा है कि 72 घंटे की जांच के बाद रिपोर्ट आएगी। जिससे पता चलेगा कि मरीजों को डायरिया है की नहीं। फिलहाल यहां रोज शिविर लगा रहे हैं। जहां स्वास्थ्य विभाग की टीम मौके पर जांच के साथ ओआरएस व अन्य दवा दे रहे हैं। निगम घर-घर में क्लो​रीन टेबलेट बंटवा रहा है। शनिवार को बीएमओ डॉ. आशीष शर्मा मौके पर पहुंचे कर जांच किए हैं। क्षेत्र में पेयजल की जांच भी करवाई जा रही है।

बोर का कनेक्शन काट दिया, टैंकर से सप्लाई

नि​गम प्रशासन ने डायरिया की जानकारी मिलते ही वार्ड की सफाई शुरू करवाई। साथ ही वार्ड में लगे बोर का कनेक्शन भी काट दिया। तीन दिन से टैंकर से पानी सप्लाई कर रहे हैं। डबरा पारा में सीधे टंकी से पानी सप्लाई नहीं होती है। इस क्षेत्र में मुक्तिधाम और शां​ति चौक में दो बोर हैं, जिससे पाइप लाइन सीधे जुड़ी है।

पीएचई की रिपोर्ट आने के बाद वजह पता चलेगी

भिलाई- 3 निगम के जल कार्य विभाग की टीम ने बताया कि वार्ड में 8 बोरिंग, 15 सार्वजनिक नल, 10 बोर है। इसके अलावा लोगों के घरों में नल कनेक्शन है। पानी के सभी स्रोतों से सैम्पल लेकर जांच कर चुके है। इसमें डायरिया का बैक्टीरिया नहीं पाया गया है। लेकिन मरीजों की संख्या बढ़ने की वजह से निगम ने पीएचई दुर्ग के लैब में जांच के लिए 13 सैम्पल भेजे है।

नाली में बिछा है पेयजल की पाइप, अब बदल रहे

डबरापारा नेशनल हाइवे के बाजू में बसी एक छोटी सी बस्ती है। जहां करीब 300 परिवार रहते हैं। बस्ती बहुत घनी है। यहां नालियों की गंदगी के बीच से पेयजल की अधिकांश पाइप लाइन बिछी है। डायरिया फैलने के बाद अब उसे बदल रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *